20161217

​नीतिशतकात् उद्धृताः सूक्तयः

नीतिशतकात् उद्धृताः सूक्तयः  
नीतिशतक से अवतरित सूक्तियाँ >>> 
(ज्ञानलवदुर्विदग्धं ब्रह्माऽपि तं नरं  रञ्जयति = जिसे अपने थोडे से ज्ञान पर मिथ्या घमण् उस व्यक्ति को ब्रह्मा भी संतुष्ट नहीं कर सकता। 
(विभूषणं मौनमपण्डितानाम्  
मौन मूर्खों का आभूषण है। 
(नहि गणयति क्षुद्रो जन्तुः परिग्रहफल्गुताम्  
नीच प्राणी अपनाई वस्तु की निस्सारता की परवाह नहीं करता  
(विवेकभ्रष्टानां भवति विनिपातः शतमुखः  
अविवेकी लोंगों का पतन सैंकडों प्रकार से होता है। 
(मूर्खस्य नास्त्यौषधम्  
मूर्ख की मूर्खता की कोई दवा नहीं है। 
(कवयस्त्वर्थं विनापीश्वराः  
विद्वान तो निर्धन होने पर भी ऐश्वर्यशाली होते हैं। 
(विद्याविहीनः पशुः  
विद्या रहित व्यक्ति पशु ही है 
(क्षीयन्ते खलु भूषणानि सततं वाग्भूषणं भूषणम्  
अन्य आभूषण नष्ट हो जाते हैं, परन्तु वाणी रुपी आभूषण सदा स्थायी रहता है। 
(सत्सङ्गतिः कथय किं  करोति पुंसाम्  
कहिये सत्संगति मानव को क्या नहीं करती है ? अर्थात् संत्संगति मानव का सभी प्रकार से कल्याण करती है। 
(१० खलु वयस्तेजसो हेतुः  
पराक्रम के लिए अवस्था कारण हीं होती। 
(११प्रारब्धमुत्तमजनाः  परित्यजन्ति  
प्रारम्भ किये कार्य को उत्तम लोग बीच में नहीं छोडते। 
(१२सतां केनोद्दिष्टं विषममसिधाराव्रतमिदम् 
सत्पुरुषो को इस असिधारा व्रत का उपदेश किसने किया है? 
(१३सर्वः कृच्छ्रगतोऽपि वाञ्छति जनः सत्त्वानुरूपं 
फलम्  
विपत्तिग्रस्त होने पर भी सब प्राणी अपने पौरुष के अनुरूप ही फल चाहते हैं। 
(१४ जातो येन जातेन याति वंशः समुन्नतिम्  
उसी जन्म लेना सार्थक है जिससे वंश उन्नति करता है। 
(१५सर्वे गुणाः काञ्चनमाश्रयन्ति  
सभी गुण कंचन (धनके आश्रित हैं। 
(१६वाराङ्गनेव नृपनीतिरनेकरूपा  
=राजनीति वैश्या के समान अनेक रु धारण करने वाली है  
(१७दुर्जनः परिहर्तव्यः विद्ययालङ्कृतोऽपि सन्  
विद्या से युक्त होने पर भी दुर्जन को त्याग देना चाहिए। 
(१८छायेव मैत्री खलसज्जनानाम्  
दुर्जन और सज्जनों की मित्रता (पूर्वार्ध और परार्ध की ) छाया के समान है। 
(१९होतारमपि जुह्वानं स्पृष्टो दहति पावकः  
स्पर्श करने पर हवन करने वाले को भी आग जलाती है। 
(२०सेवाधर्मः परमगहनो योगिनामप्यगम्यः  
सेवाकर्म बडा गूढ है यह योगियों के लिए भी अगम्य है। 
(२१अनुद्धताः सत्पुरुषाः समृद्धिभिः  
समृद्धशाली होने पर भी सत्पुरुष विनम्र रहते हैं। 
(२२सन्तः स्वयं परहिते विहिताभियोगाः  
सत्पुरुष स्वयं ही परोपकार में लगे रहते हैं। 
(२३विभाति कायः करुणापराणां रोपकारैर्न तु चन्दनेन  
दयावान मनुष्य का शरीर परोपका से सुशोभित होता है , चन्दन के अनुलेप से नहीं  
(२४ निश्चितार्थाद्विरमन्ति धीराः  
धैर्यशाली कभी अपने संकल्प से विचलित नहीं होते। 
(२५शीलं परं भूषणम्  
शील (चरित्रसर्वश्रेष्ठ आभूषण है। 
(२६मनस्वी कार्यार्थी गणयति  दुःखं   सुखम्  
कार्य सिद्धि की इच्छा रखने वाला मनस्वी पुरुष सुख दुख की परवा नहीं करता है। 
(२७न्याय्यात् पथः प्रविचलन्ति पदं  धीराः  
धीरवीर कभी न्याय के मार्ग से एक कदम भी नहीं हटता है। 
(२८नास्त्युद्यमसमो बन्धुः  
परिश्रम के समान मनुष्य का को बन्धु नहीं है। 
(२९आलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः  
मनुष्य के शरीर में रहने वाला आलस्य उसका सबसे बडा शत्रु है। 
(३०सन्तः सन्तप्यन्ते  दुःखेषु  
सत्पुरुष अपने उपर आने वाले दुखों से कभी दुखी नहीं होता  
(३१कर्मायत्तं फलं पुंसाम्  
मनुष्य को कर्म का फल मिलता है 
(३२रक्षन्ति पुण्यानि पुराकृतानि  
पूर्वकृत पुण्य प्राणी की रक्षा करते हैं। 
(३३तेजस्विनः सुखमसूनपि सन्त्यजन्ति 
सत्यव्रतव्यसनिनः  पुनः प्रतिज्ञाम्  
सत्यव्रती तेजस्वी अपने प्राणों का त्याग कर सकते हैं अपनी प्रतिज्ञा का नहीं।